भजिया हो मन पवन कुमार रमा हो पति प्यारी ,Holi Chautal Lyrics In Hindi

भजिया हो मन पवन कुमार रमा हो पति प्यारी लिरिक्स,
Bhajia ho man pawankumar Holi Chautal Lyrics,

Holi Chautal Lyrics In Hindi

Bhajia ho man pawankumar Holi Chautal Lyrics,


चौताल :
चौताल माने चार ताल इसलिए इसे चौताल कहा जाता हैं
इसमें कहरवा, दीपचंदी ,तिरपित और अंत में धमार मुख्य ताल है , चौताल उत्तर भारत का बहुत प्रसिद्ध गीत है जिसे फाल्गुन माह में गाया जाता है




भजिया हो मन पवन कुमार रमा हो पति प्यारी

हो रमा हो पति प्यारी ,

भजिया हो अरे हा ,

भजिया हो मन पवन कुमार रमा हो पति प्यारी




हाथे गदा करधनी साजे ,

माथे तिलक लिलारे

हाथे गदा करधनी साजे ,

माथे तिलक लिलारे


अरे माथे तिलक लिलारे ,

बोलो महादेव हर-हर हर-हर , माथे तिलक लिलारे

अरे माथे तिलक लिलारे ,

जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, माथे तिलक लिलारे




अरे हाथे गदा करधनी साजे ,

माथे तिलक लिलारे

अरे हाथे गदा करधनी साजे ,

माथे तिलक लिलारे 4




भजिया हो मन पवन कुमार रमा हो पति प्यारी

हो रमा हो पति प्यारी ,

भजिया हो अरे हा , भजिया हो मन पवन कुमार रमा हो पति प्यारी

Previous
Next Post »