jyot se jyot jagate chalo lyrics Rajan ji maharaj

ज्योत से ज्योत जगाते चलो लिरिक्स - (राजन जी महराज )

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, 
प्रेम की गंगा बहाते चलो
राह में आए जो दीन दुखी,
सबको गले से लगाते चलो


जिसका न कोई संगी साथी 
ईश्वर है रखवाला
जो निर्धन है जो निर्बल है ,
वह है प्रभू का प्यारा
प्यार के मोती लुटाते चलो, प्रेम की गंगा...


आशा टूटी ममता रूठी,
छूट गया है किनारा
बंद करो मत द्वार दया का,
दे दो कुछ तो सहारा
दीप दया का जलाते चलो, प्रेम की गंगा...


छाई है छाओं और अंधेरा 
भटक गई हैं दिशाएं
मानव बन बैठा है दानव
किसको व्यथा सुनाएं
धरती को स्वर्ग बनाते चलो, प्रेम की गंगा...


कौन है ऊँचा कौन है नीचा ,
सब में वो ही समाया
भेद भाव के झूठे भरम में 
ये मानव भरमाया
धर्म ध्वजा फहराते चलो, प्रेम की गंगा ...


सारे जग के कण कण में है 
दिव्य अमर इक आत्मा
एक ब्रह्म है एक सत्य है 
एक ही है परमात्मा
प्राणों से प्राण मिलाते चलो, प्रेम की गंगा ...


Jyot se jyot jagate chalo, prem ki ganga bahate chalo Lyrics by Rajanji maharaj 

Jyot se jyot jalate chalo lyrics


Jyot se jyot jagate chalo,
prem ki ganga bahate chalo 
Raah mein aaye jo deen dukhi, 
sabko gale se lagate chalo

Jiska na koi sangi saathi, 
Ishwar hai rakhwala 
Jo nirdhan hai, jo nirbal hai, 
woh hai Prabhu ka pyara 
Pyar ke moti lutate chalo, prem ki ganga...

Asha tooti, mamta roothi, 
chhoot gaya hai kinara 
Band karo mat dwar daya ka,
de do kuchh to sahara 
Deep daya ka jalate chalo, prem ki ganga...

Chhaayi hai chhaoen aur andhera, 
bhatk gayi hain dishayen 
Manav ban baitha hai danav, 
kisko vyatha sunayen 
Dharti ko swarg banate chalo, prem ki ganga...


Kaun hai ooncha, kaun hai neecha,
sab mein woh hi samaya 
Bhed-bhaav ke jhoote bharam mein,
ye manav bhrmayaa 
Dharm dhvaja fahrate chalo, prem ki ganga...


Sare jag ke kan-kan mein hai,
divya amar ek aatma 
Ek Brahm hai, ek satya hai,
ek hi hai Paramatma
Pranon se pran milate chalo, prem ki ganga..

Previous
Next Post »