Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya lyrics

जीवन खतम हुआ तो, जीने का ढंग आया लिरिक्स राजन जी महाराज 


जीवन खतम हुआ तो,
जीने का ढंग आया,
जब शमा बुझ गयी तो,
महफ़िल में रंग आया।
(जीवन ख़तम हुआ तो,
जीने का ढ़ंग आया,
जब शमा बुझ गयी तो,
महफिल में रंग आया)

गाड़ी निकल गयी तो,
घर से चला मुसाफ़िर,
(गाडी निकल गयी तो,
घर से चला मुसाफिर)
फिर मायूस हाथ मलता,
वापस बैरंग आया,
(जीवन ख़तम हुआ तो,
जीने का ढ़ंग आया,
जब शमा बुझ गयी तो,
महफिल में रंग आया)

मन की मशीनरी ने,
जब ठीक चलना सीख़ा,
तब बूढ़े तन के हरएक,
पुर्जे में जंग आया,
(जीवन ख़तम हुआ तो,
जीने का ढ़ंग आया,
जब शमा बुझ गयी तो,
महफिल में रंग आया)

फ़ुरसत के वक़्त में ना,
सुमिरण का वक़्त निकला,
उस वक़्त वक़्त माँगा,
जब वक़्त तंग आया
(जीवन ख़तम हुआ तो,
जीने का ढ़ंग आया,
जब शमा बुझ गयी तो,
महफिल में रंग आया)

आयु ने नत्था सिंह,
जब हथियार फेंक डालें,
यमराज फ़ौज लेकर,
करने को जंग आया
(जीवन ख़तम हुआ तो,
जीने का ढ़ंग आया,
जब शमा बुझ गयी तो,
महफिल में रंग आया)


Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya lyrics by Rajan ji Maharaj 


Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya, 
Jab shamaa bujh gayi toh, Mehfil mein rang aaya. 
(Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya, 
Jab shamaa bujh gayi toh, Mehfil mein rang aaya)

Gaadi nikal gayi toh, Ghar se chala musaafir, 
(Gaadi nikal gayi toh, Ghar se chala musaafir)
 Phir mayus haath malta, Vaapas bairang aaya, 
(Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya, 
Jab shamaa bujh gayi toh, Mehfil mein rang aaya)

Man ki mashinari ne, Jab theek chalna seekha,
 Tab boode tan ke harek, Purje mein jang aaya,
 (Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya, 
Jab shamaa bujh gayi toh, Mehfil mein rang aaya)

Fursat ke waqt mein na, Sumiran ka waqt nikla,
 Us waqt waqt maanga, Jab waqt tang aaya, 
(Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya, 
Jab shamaa bujh gayi toh, Mehfil mein rang aaya)

Aayu ne nathha Singh, Jab hathiyaar fenk daale, 
Yamraj fauj lekar, Karne ko jang aaya, 
(Jeevan khatam hua toh, Jeene ka dhang aaya, 
Jab shamaa bujh gayi toh, Mehfil mein rang aaya)
Previous
Next Post »